Menu

श्री श्री रविशंकर की अयोध्या विवाद को आपसी सहमति से हल करने की पहल स्वागत योग्य : मुस्लिम फोरम

Published: November 18, 2017 at 8:32 pm

nobanner
Print Friendly, PDF & Email

वीपीएल न्यूज़, अलीगढ़- फोरम फॉर मुस्लिम स्टैडीज एण्ड एनालिसिस (एफ०एम०एस०ए०) ने अयोध्या मे रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में श्री श्री रवि शंकर की मध्यस्था का स्वागत करते हुए कहा है कि आपसी सहमति से न्यायलय के बाहर विवाद के हल से सामाजिक समरसता और सौहार्द बढ़ेगा तथा देश मे विकास गति तेज़ होगीं।

रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद देश के राजनीतिक एवं सामाजिक पटल पर एक दुर्भाग्यपूर्ण अध्याय है। श्री श्री रविशंकर और ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना खालिद रशीद फिरगीमहली की भेंट वार्ता इतिहास मे एक मील के पत्थर के रूप में दर्ज हो जायेगी। उक्त बातें डॉ० जसीम मोहम्मद ने फोरम फॉर मुस्लिम स्टैडीज एण्ड एनालिसिस (एफ०एम०एस०ए०) द्वारा ‘‘भारतीय सांझी संस्कृति और अयोध्या’’ विवाद विषय पर मीडिया सेन्टर अलीगढ़ पर आयोजित एक चिन्तन बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहीं। उन्हांने कहा कि अयोध्या विवाद का हल न्यायलय से बाहर ही होना देश और समाज के हित मे है।

डॉ० जसीम मोहम्मद ने कहा कि मौलाना खालिद रशीद फिरगीमहली केवल इस्लामिक विद्वान ही नहीं है बल्कि राष्ट्रीय हित से ओत प्रोत भारतीय है। दूसरी ओर श्री श्री रविशंकर अर्न्तराष्ट्रीय स्तर के अध्यातमिक गुरू हैं। उन्होंने कहा लखनऊ की सांझा संस्कृति के माहौल मे दोनों की आपसी वार्ता का स्वागत किया जाना चाहिए और आशा है कि शीघ्र ही अयोध्या विवाद हल होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी देश में आर्थिक विकास की गति को तेज़ करने मे सफल रहे है और अयोध्या विवाद के हल का सकारात्मक प्रभाव देश के विकास पर होगा।

डॉ० शीरिन मसरूर ने कहा कि कानून और न्यायलय देश और समाज हित मे विवादों को हल करने के लिए है परन्तु कुछ विवाद आपसी सहमति से ही हल हो सकते हैं। उन्हांने कहा श्री श्री रविशंकर की पहल न केवल विवाद को हल करेगी बल्कि भविष्य मे अन्य विवादों के लिए भी एक मिसाल होगी।

बैठक में डॉ० फारूक एवं डॉ० आफताब आलम ने भी अपने विचार प्रस्तुत किए। वक्ताओं ने एक स्वर से श्री श्री रविशंकर की पहल का स्वागत करते हुए अयोध्या विवाद हल होने की आशा प्रकट की। मुस्लिम फोरम ने कहा कि श्री श्री रविशंकर को आयोध्या विवाद के अन्य पक्षों जैसे मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के पदाधिकारी तथा अयोध्या विवाद के विशेष पक्षकार श्री मोहम्मद इकबाल अंसारी मे भी भेंट करनी चाहिए ताकि आपसी समझौता प्रभावी रूप से हो सके।

बैठक मे मुस्लिम फोरम ने प्रस्ताव पारित करके श्री श्री रविशंकर और मौलाना खालिद रशीद फिरगीमहली की लखनऊ में भेंट वार्ता का स्वागत करते हुए दोनो पक्षों से अपील की। वह भी अयोध्या विवाद को न्यायालय के बाहर आपसी सहमति से हल करने मे अपना योगदान दें।




Leave a Comment

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>