Menu

29 साल बाद बन रहा है अत्यंत शुभ योग, दीर्घायु आयुष्मान योग में बांधी जायेंगी राखी : स्वामी पूर्णानंदपुरी

Published: August 1, 2020 at 5:56 pm

nobanner
Print Friendly, PDF & Email


वीपीएल न्यूज़, अलीगढ़- सावन महीने के आखिरी दिन पड़ने वाली पूर्णिमा को श्रावणी पूर्णिमा कहा जाता है। इसी दिन रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन चंद्रमा अपनी पूर्ण कलाओं के साथ होता है। इसलिए चंद्रदोष निवारण के लिए भी यह दिन उत्तम रहता है। 27 नक्षत्र दिन तिथि की गति के अनुसार बदलते हैं, श्रावणी पूर्णिमा के दिन चंद्रमा श्रवण नक्षत्र में होता है। श्रावण मास में श्रवण नक्षत्र रक्षाबंधन का पर्व का पड़ना इस पर्व की शुभता में वृद्धि करता है, इसलिए इस दिन रक्षाबंधन का महत्व बढ़ जाता है,यह दिन कई कार्यों के लिए उत्तम माना गया है। यह जानकारी वैदिक ज्योतिष संस्थान के अध्यक्ष एवं महामंडलेश्वर स्वामी श्री पूर्णानंदपुरी जी महाराज ने दी।

स्वामी जी ने जानकारी देते हुए बताया कि इस वर्ष 3 अगस्त को श्रावण मास का अंतिम सोमवार भी है,इस दिन पूर्णिमा तिथि है जो रात्रि 9 बजकर 28 मिनट तक रहेगी, रक्षाबंधन के दिन चंद्रमा मकर राशि में रहेंगे और इस दिन प्रात: 7 बजकर 18 मिनट तक उत्तराषाढ़ा नक्षत्र रहेगा, इसके बाद श्रवण नक्षत्र आरंभ होगा। रक्षाबंधन के पर्व पर सर्वार्थ सिद्धि और दीर्घायु आयुष्मान का विशेष शुभ योग 29 साल बाद बन रहा है इस बार रक्षाबंधन का पर्व श्रावण मास में पड़ रहा है वो भी सावन के अंतिम सोमवार को, जो भगवान शिव का दिन है।

राखी के मुहूर्त के विषय में जानकारी देते हुए परमपूज्य गुरुदेव ने बताया कि दो अगस्त रात 09:28 से तीन अगस्त सुबह 09:28 बजे तक भद्रा काल रहेगा। इस समय राखी बांधना शुभ नहीं है, इसके साथ ही 3 अगस्त को सुबह 7:18 बजे से ही सर्वार्थ सिद्धि योग शुरू हो रहा है। यह योग बहुत ही फलदाई होता है किन्तु भद्रा के रहते रक्षा बंधन के लिए सुबह 9:28 बजे से रात 9:28 बजे तक विशेष मुहूर्त रहेगा अतः इस दौरान बहनें अपनी भाई को किसी भी समय राखी बांध सकेंगी।

राखी बाँधने के विधान को लेकर महामंडलेश्वर स्वामी श्री पूर्णानंदपुरी जी महाराज ने बताया कि भाई को पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके बिठाकर, पूजा की थाली में चावल, रौली, राखी, दीपक रखकर बहन को भाई के अनामिका उंगली से टीका लगाकर आरती करनी चाहिए।




Prayagraj Crime News: शिवकुटी में गोली मारकर सब्जी विक्रेता की हत्या