Menu

हरियाली अमावस्या सोमवार को, वृक्ष लगाकर पित्रों को करें प्रसन्न : स्वामी श्री पूर्णानंदपुरी जी

Published: July 19, 2020 at 6:14 pm

nobanner
Print Friendly, PDF & Email

अलीगढ़- भगवान शिव को समर्पित सावन मास का हर सोमवार बहुत खास होता है लेकिन इस बार सावन का तीसरा सोमवार ज्यादा फलदायी है क्योंकि सावन में सोमवती अमावस्या और सोमवार को पूर्णिमा का संयोग 47 साल बाद आया है। जबकि 20 साल बाद सावन सोमवार को सोमवती और हरियाली अमावस्या का संयोग बन रहा है।

इससे पहले 31 जुलाई 2000 में सोमवती और हरियाली अमावस्या एक साथ थी। इस साल हरियाली अमावस्या के दिन चंद्र, बुध, गुरु, शुक्र और शनि ग्रह अपनी-अपनी राशियों में रहेंगे। ग्रहों की इस स्थिति का शुभ प्रभाव कई राशियों पर देखने को मिलेगा। यह जानकारी वैदिक ज्योतिष संस्थान के अध्यक्ष एवं महामंडलेश्वर स्वामी श्री पूर्णानंदपुरी जी महाराज ने दी।

महामंडलेश्वर स्वामी श्री पूर्णानंदपुरी जी महाराज ने बताया कि सावन मास में जल तत्व की प्रधानता रहती है और इस समय हरियाली चारों और छाई रहती है। पौराणिक शास्त्रों में वृक्षों और जड़ी-बूटियों का बहुत महत्व बतलाया गया है और इनको देवतुल्य माना गया है। विभिन्न तिथि, पर्वों और महोत्सव के अवसर पर पौधारोपण की परंपरा को जीवन की शुभता के साथ जोड़ा गया है। ऐसी ही एक तिथि सावन में होती है।

सावन मास की अमावस्या को हरियाली अमावस्या कहते हैं, हरियाली अमावस्या तिथि 20 जुलाई रात 12 बजकर 10 मिनट से प्रारंभ होकर उसी दिन यानि 20 जुलाई की रात 11 बजकर 02 मिनट पर समाप्त होगी।

स्वामी जी ने हरियाली अमावस्या के महत्व के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इस दिन पूर्वजों की शांति के लिए श्राद्धकर्म एवं पिंडदान की मान्यता भी है पित्रों की आत्मा की शांति के लिए दान किया जाता है। इस दिन पितृों की शांति के लिए पीपल,बरगद जैसे शुभ और छायादार वृक्षों का रोपण किया जाता है, जिससे प्रसन्न होकर पित्र गण सुख-समृद्धि का आशीर्वाद प्रदान करते हैं। इसके अलावा इस दिन पवित्र नदियों में स्नान का भी बड़ा महत्व है।

हरियाली अमावस्या के दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर सर्वप्रथम सूर्य को अर्घ्य दे और उसके बाद पितृों के निमित्त तर्पण करें। गरीबों और जरूरतमंदों को यथाशक्ति अन्न-वस्त्र का दान करें। इस दिन पीपल के वृक्ष की पूजा से विशेष कृपा की प्राप्ति होती है। नदियों में मछलियों को आटे की गोली खिलाएं और चींटियों को इस दिन चीनी मिश्रित सूखा आटा खिलाएं।




Farmers Protest: मथुरा में एक्सप्रेसवे पर भाकियू का प्रदर्शन, वाहनों की थमी रफ्तार, 30 किसान गिरफ्तार