Menu

“सूर्य मित्र” के रूप में प्रशिक्षित होकर शुरू करें स्वःरोजगार, मिल रहा है 3 माह का निःशुल्क प्रशिक्षण

Published: June 4, 2020 at 8:26 pm

nobanner
Print Friendly, PDF & Email

वीपीएल न्यूज़, अलीगढ़- केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा वर्तमान में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण प्रवासी मजदूरों के पलायन से उनको क्षेत्रीय स्तर पर ही स्वःरोजगार उपलब्ध कराये जाने के अनवरत प्रयास किये जा रहे हैं। इसी क्रम में वैकल्पिक ऊर्जा के रूप में सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के साथ ही सौर ऊर्जा संयंत्रों के अनुरक्षण एवं मरम्मत हेतु 3 माह का निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान कराया जा रहा है। प्रशिक्षण प्राप्त कर व्यक्ति ’’सूर्य मित्र’’ के रूप में अपने ही जनपद में सौर ऊर्जा संयंत्रों का अनुरक्षण एवं मरम्मत का कार्य कर स्वःरोजगार प्रारम्भ कर अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत कर सकते हैं।

परियोजना अधिकारी यूपीनेडा फीरोज अहमद ने आमजन को स्वरोजगार एवं सौर ऊर्जा संयत्रों के अनुरक्षण हेतु विभाग द्वारा विकसित मोबाइल एप ’’आदित्य टी एण्ड ई’’ एवं ’’ आदित्य सी’’ के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि गत 14 दिसम्बर 2019 को ऊर्जा संरक्षण दिवस के अवसर पर प्रदेश के मा0 मंत्री ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा विभाग द्वारा इन दोनों मोबाइल एप का शुभारम्भ कर आमजन को समर्पित किया गया है। उन्होंने बताया कि यूपीनेडा के अतिरिक्त प्रदेश में अन्य संस्थाओं द्वारा भी सौर ऊर्जा पर आधारित विभिन्न संयंत्रों की स्थापना कराई जाती है। सौर ऊर्जा संयंत्रों के अनुरक्षण के लिये यूपीनेडा प्रशिक्षण शोध एवं विकास केन्द्र, देवा रोड चिनहट, लखनऊ पर स्वरोजगारकर्ताओं को ’’सूर्य मित्र’’ के रूप में 3 माह का निःशुल्क आवासीय प्रशिक्षण दिया जाता हैं। सूर्य मित्रों द्वारा भी सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना कराई जाती है।

श्री अहमद ने बताया कि जनपद के इच्छुक व्यक्ति सोलर इलैक्ट्रिक सिस्टम इंस्टालर एण्ड सर्विस प्रोवाइडर का प्रशिक्षण एवं स्वःरोजगार हेतु सूर्य मित्र सेवा प्रदाता के रूप में पंजीकरण कराने के लिये मोबाइल एप ’’आदित्य टी एण्ड ई’’ पर आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि आवेदन सही पाये जाने एवं प्रशिक्षण की तिथि निर्धारित होने पर आवेदक को मोबाइल एप के माध्यम से सूचित किया जाएगा। प्रशिक्षण के उपरान्त स्वःरोजगार हेतु मोबाइल एप ’’आदित्य टी एण्ड ई’’ डाउनलोड कर जनपद में सूर्यमित्र सेवा प्रदाता के रूप में पंजीकरण हेतु आवेदन किया जाएगा, यूपीनेडा द्वारा आवेदक को एप के माध्यम से ही पंजीकृत कर लिया जाएगा। आवेदक को पंजीकरण के 15 दिन अन्दर मूल प्रमाण-पत्रों का परीक्षण कराते हुए 2000 रूपये की धरोहर राशि जमा करनी होगी। उन्हांेने बताया कि सौर ऊर्जा संयंत्रों के अनुरक्षण हेतु मोबाइल एप ’’आदित्य सी’’ पर दर्ज शिकायतों के निस्तारण के लिये शिकायतकर्ता से 150 रूपये विजिटिंग चार्ज एवं लगने वाले पार्ट की कीमत प्राप्त कर सूर्य मित्र स्वःरोजगार कर सकते हैं।
परियोजना अधिकारी ने बताया कि आमजन सौर संयत्रों के अनुरक्षण एवं मरम्मत कराने के लिये यूपीनेडा द्वारा विकसित मोबाइल एप ’’आदित्य सी’’ पर अपने खराब संयंत्र का विवरण फोटो सहित दर्ज करें। उन्होंने बताया कि संयंत्र यूपीनेडा द्वारा स्थापित होने की दशा में यूआईडी नं0 भी दर्ज करा होगा। संयंत्र 05 वर्ष की वारन्टी अवधि में होने पर सम्बन्धित फर्म को शिकायत भेजते हुए एप के माध्यम से ही शिकायतकर्ता को सूचित किया जागा। उन्होंने बताया कि वारन्टी अवधि न होने अथवा अन्य संस्थाओं/मार्केट से स्थापित संयंत्रों को ठीक कराने के लिये 150 रूपये विजिटिंग चार्ज एवं लगने वाले पार्ट की कीमत का शिकायतकर्ता द्वारा सूर्यमित्र को भुगतान किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मोबाइल एप को google play store, upneda.org.in एवं upnedartc.com से डाउनलोड किया जा सकता है।







शव रखकर चक्काजाम करने वाले 32 लोगों पर मुकदमा