Menu

चाइल्ड लाइन की मदद से 8 माह बाद मिला बिछुड़ा लाल, माँ ने चाइल्ड लाइन को कहा धन्यवाद

Published: January 25, 2019 at 10:35 pm

nobanner
Print Friendly, PDF & Email




वीपीएल न्यूज़, अलीगढ़ 25 जनवरी- उड़ान सोसाइटी द्वारा संचालित चाइल्ड लाइन की मदद से एक माँ का इकलौता लाल आठ माह बाद सकुशल मिल गया। बिछुड़े बेटे को पाकर माँ और पिता उड़ान सोसाइटी के कार्यालय धन्यवाद देने आये।

जानकारी के अनुसार गत वर्ष दो मई को संजय सोनी का चौथी कक्षा में पड़ने वाला एकलौता पुत्र शौर्य घर से सामान लेने के लिए निकला, जिसके बाद वह वापस नहीं लौटा। संजय सोनी के अनुसार उस समय वह काम के सिलसिले में हरियाणा गए हुए थे, उन्हें जैसे ही बालक के गुम हो जाने की खबर मिली वह तत्काल वापस आये और गाँधी पार्क थाने में पुलिस को सूचना दी। तब से लेकर वह शौर्य को लगातार खोज रहे थे। लेकिन कोई पता नहीं चल सका।

उन्होंने अपने बच्चे के गुम हो जाने की जानकारी अलीगढ़ चाइल्ड लाइन को भी बता रखी थी। अचानक तीन दिन पूर्व चाइल्ड लाइन के निदेशक ज्ञानेंद्र मिश्रा को चाइल्ड लाइन फिरोजाबाद से सूचना प्राप्त हुई कि अलीगढ़ का एक बालक आठ माह से फिरोजाबाद के बालगृह में रह रहा है। बालक अपना नाम शौर्य, माँ का नाम मोनिका व् पिता का नाम संजय बता रहा है। चाइल्ड लाइन की टीम ने अपने रिकॉर्ड को खंगाला तो बालक के पिता का नंबर मिल गया। तत्काल पिता को सूचना दी गयी जो शौर्य को फिरोजाबाद जाकर बाल कल्याण समिति के आदेश से बाल गृह से ले कर आये।

उड़ान सोसाइटी के कार्यालय पर आकर बालक ने बताया कि वह अपने तत्कालीन मकान मालिक के बेटे के कहने में आकर बिना बताये घर से निकल गया था। अलीगढ़ से वह बस द्वारा वृन्दावन पहुँच गया, जहाँ बांके बिहारी मंदिर पर घूम रहा था तो पुलिस ने पकड़ कर बाल कल्याण समिति में पेश किया, जहाँ से उसे फिरोजाबाद बाल गृह भेज दिया गया। उसने डर से किसी को अपना पता नहीं बताया। बाल कल्याण समिति फिरोजाबाद के सदस्य जफ़र आलम बाल गृह गए तो उन्होंने बालक से उसका पता पूछा तब शौर्य ने अपने परिवारीजनों के विषय में बताया। जफ़र आलम ने चाइल्ड लाइन फिरोजाबाद के माध्यम से चाइल्ड लाइन अलीगढ़ को बालक की सूचना भिजवाई, जिसके बाद ही परिजनों को खोजा जा सका।






Leave a Comment

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>