Menu

अलीगढ़: बेटा जैसा डीएम आये बारंबार, वृद्धा को डीएम ने दिलाई पेंशन, राशन और आवास

Published: October 8, 2018 at 9:13 pm

nobanner
Print Friendly, PDF & Email




वीपीएल न्यूज़, अलीगढ़- डीएम चंद्र भूषण सिंह ने एक बार नहीं कई बार सार्वजनकि तौर पर ये कहा है कि जनपद के हर नागरिक की जिम्मेदारी उनकी है। अपने अधिकारों का उपयोग करके एक डीएम सभी सरकारी योजनाओं का लाभ हर पात्र व्यक्ति को दिलाता है। परंतु ये अलीगढ़ का सौभाग्य है कि अलीगढ़ की जनता को एक ऐसा डीएम मिला है जो ये महसूस करता है कि वर्द्धावस्था में असहाय होने का दर्द क्या होता है। इसी को आज चरितार्थ किया डीएम अलीगढ़ चन्द्र भूषण सिंह ने।

जनहित में किये जाने वाली कार्यशैली से डीएम के अधीनस्थ अधिकारी भी इतने प्रभावित हैं कि वह उनकी कार्यशैली का अनुसरण कर रहे हैं। इसका उदाहरण तब देखने को मिला जब घनश्यामपूरी निवासी बुजर्ग महिला उर्मिला देवी (60वर्ष) सोमवार दोपहर को डीएम से मिली और महिला ने रुंधे हुए गले से डीएम से कहा कि बेटा मैं असहाय हूँ, मेरे पास न तो रहने को छत है न खाने को अनाज। उसने डीएम को बताया की मैंने दो दिन से खाना भी नहीं खाया है। इतना सुनते ही जिलाधिकारी भावुक हो गये औऱ उन्होने बुजर्ग महिला को भरोसा दिया कि वे उनके साथ है तथा उनकी हर सम्भव मदद करेंगे। इ़सके साथ ही डीएम ने डीएसओ नीरज सिंह को बुलाया औऱ बुजर्ग महिला को राशन उपलब्ध कराने के साथ साथ राशन कार्ड बनाने के निर्देश दिये।

डीएम के निर्देशों का पालन करते हुए डीएसओ नीरज सिंह ने पूर्ति विभाग के कर्मचारी श्री विनोद कुमार को बुजर्ग महिला उर्मिला देवी के किराये के घर घनश्याम पूरी में राशन सामग्री लेकर भेजा औऱ बुजर्ग महिला को राशन सामग्री प्रदान की, जिसे पाकर बुजर्ग महिला के चेहरे पर खुशी नजर आयी। यह देखकर मोहल्ले के लोगों ने इस कार्य के लिये जिलाधिकारी की जमकर प्रशंसा की।

डीएसओ श्री नीरज सिंह ने बताया कि डीएम अलीगढ़ की कार्यशैली प्रेरणाश्रोत है और उनके निर्देशों का पालन किया गया है। डीएसओ ने कहा कि अलीगढ़ का कोई भी पात्र व्यक्ति राशन से वंचित नहीं रहेगा, हर पात्र नागरिक को राशन उपलब्ध कराया जाएगा।






Leave a Comment

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>