Menu

पशु डेरी शहर से बाहर ले जाने के लिए डेरी संचालकों को 15 दिन की मोहलत, नहीं तो होगी कार्यवाही

Published: August 12, 2017 at 6:46 pm

nobanner
Print Friendly

वीपीएल न्यूज़, अलीगढ़- माननीय उच्च न्यायालय द्वारा क्रिमिनल मिस केस संख्या 9113(बी)2015 इम्तियाज पुत्र रफीक बनाम उत्तर प्रदेश राज्य व अन्य में माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद लखनऊ बेंच लखनऊ द्वारा पारित आदेश एवं गत दिनों माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा समीक्षा बैठक में नगरीय क्षेत्रों में सड़कों पर छुट्टा घूमने वाले पशुओं को नगरीय क्षेत्र से बाहर किये जाने एवं नगर निगम क्षेत्रों में अवैध डेरियों को जनहित में नगरीय सीमा से बाहर किये जाने पर कड़े निर्देश दिये गये।
मा0 उच्च न्यायालय व मुख्यमंत्री जी के निर्देशों के क्रम में गत दिनों नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा ने शहर में भ्रमण कर संचालित डेरी संचालकों व पशुपालकों के विरूद्ध कड़ा रूख अपनाते हुये शहर सीमा से बाहर ले जाने की चेतावनी दी थी। शहर को डेरी मुक्त व आवारा पशुओं की रोकधाम के लिये आज नगर निगम सेवाभवन में जिला प्रशासन/अलीगढ़ विकास प्राधिकरण/नगर निगम/प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड/आवास विकास परिषद व शहर के डेरी संचालकों के साथ संयुक्त बैठक आहुत हुयी। बैठक में संयुक्त नगर आयुक्त शिव पूजन यादव ने माननीय उच्च न्यायालय व माननीय मुख्यमंत्री जी के स्पष्ट निर्देशों से डेरी संचालकों अवगत कराया। इससे पूर्व नगर आयुक्त ने यह भी बताया कि गत 8 माह पूर्व नगर निगम/पुलिस/प्रशासन की संयुक्त डेरी संचालको मोहल्लत देते हुये अपनी अपनी डेरी शहर सीमा से बाहर ले जाने के निर्देश दिये गये थे परन्तु 7 से 8 माह बाद भी डेरी संचालकों द्वारा इस पर कोई कार्यवाही नहीं किये जाने बाद नगर निगम/पुलिस व प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से अंतिम बेैठक कर मा0उच्च न्यायालय व प्रदेश सरकार की मंशा से डेरी संचालकों को 15 दिन की नोटिस अवधि दी गयी है।

बैठक में नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा ने कहा मा0उच्च न्यायालय व प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप यदि निर्धारित समय सीमा के पश्चात् डेरी संचालक द्वारा अपनी डेरी शहर सीमा से बाहर नहीं ले जायी जाती है तो उसके विरिूद्ध वैधानिक कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। बैठक में उन्होने कहा कि सड़क पर आवारा घुमते पाये जाने वाले पशुओं को नगर निगम द्वारा पकड़कर/जुर्माना वसूल करने व नीलाम करने की कार्यवाही की जायेगी।

अपर जिलाधिकारी(नगर) श्याम बहादुर सिंह ने डेरी संचालकों को 15 दिन का अल्टीमेटम देते हुये स्पष्ट किया कि तय अवधि में यदि कोई डेरी शहर सीमा से बाहर नहीं जाती है तो डेरी स्वामी के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराते हुये कठोर वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। उन्होनें कहा कि सभी डेरी संचालकों के पास यह अंतिम अवसर है निर्धारित 15 दिन की अवधि समाप्त हो जाने के पश्चात् नगर निगम/पुलिस/प्रशासन द्वारा शहर में चिन्हित डेरी संचालकों के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।

नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा ने कहा कि शहर में गंदगी और सड़क पर आवारा पशुओं का विचरण कताई बरार्दश नहीं किया जायेगा। उन्होनें अधिनस्थों को बैठक में ही कड़े निर्देश देते हुये आवारा पशुओं को प्रतिदिन पकड़ने के लिये कैटल क्रेचर टीमों को शहर में घुमवाये जाने व आवारा पशु स्वामियों के विरूद्ध भारी जुर्माना वसूल करने का दायित्व निर्धारित किया।

मुख्य कर निर्धारण अधिकारी/मीडिया प्रभारी डाॅ संजीव कुमार ने बताया कि नगर निगम कंट्रोल रूम दूरभाष संख्या 0571-2502111, 18002747047 व 7500112224 पर आवारा घुमने वाले पशुओं की शिकायतों को जनसामान्य दर्ज करा सकते है।

बैठक में नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा, अपर जिलाधिकारी नगर श्याम बहादुर सिंह, संयुक्त नगर आयुक्त शिव पूजन यादव, सहायक नगर आयुक्त हेमराज, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ कुलदीप कुमार, मुख्य कर निर्धारण अधिकारी डाॅ संजीव कुमार, महाप्रबंधक जल शैलेन्द्र पाठक, प्रभारी सचिव अलीगढ़ विकास प्राधिकरण देवेन्द्र सिंह भदौरिया, पशु चिकित्साधिकारी शशि भूषण सिंह, क्षेत्रीय प्रदूषण अधिकारी रामगोपाल, कर निर्धारण अधिकारी हरगोविन्द यादव, कर अधीक्षक हरीकृष्ण गुप्ता, सभापति यादव, स्वच्छता निरीक्षक अनिल कुमार, अनिल आजाद, ऋषिपाल यादव, नितिन, एहसान रब, डेरी संचालकों में भोला शंकर, चुन्नीलाल दिवाकर, योगेश कुमार, मनोज कुमार प्रमोद कुमार, परमदीलाल, मुंशीलाल, इस्लाम, जतन सिंह, मेहरून, चमन, संतोषी, सावित्री आदि उपस्थित थे।




Leave a Comment

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>