Menu

बाल स्वास्थ्य पोषण माह की मिडराउण्ड कवरेज की समीक्षा हुयी

Published: June 20, 2014 at 5:58 pm

nobanner
Print Friendly, PDF & Email

अलीगढ़। बाल स्वास्थ्य पोषण माह की मिडराउण्ड कवरेज की समीक्षा मुख्य चिकित्साधिकारी अलीगढ़ की अधक्ष्यता में जिसमें जिला प्रतिरक्षण अधिकारी, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी,डी.पी.ओ., सी.डी.पी.ओ. सिटी, एस.एम.ओ.,डब्ल्यू.एच.ओ. से डा. स्नेहल, डा. विकास मल्हौत्रा, डा. मौ. रिजवान माईक्रोन्यूट्रियेन्ट तथा ब्लाक से अधीक्षक एवं सी.डी.पी.ओ., आई.ओ. ने बैठक में भाग लिया। सबसे पहले डा0 एस.पी. सिंह जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने बैठक में सभी उपस्थिति अधिकारियों/ कर्मचारियों का धन्यवाद किया और बाल पोषण माह जून 2014 में अभी तक प्राप्त उपलब्धि से सभी को अवगत कराया। अकराबाद व जबां से अति गम्भीर बच्चों को संदर्भित किया गया जो दूसरी सी.एच.सी. से यह संख्या शून्य थी। सभी से पूछा गया कि यह संख्या शून्य क्यों है और ब्लाक की सुपरवाईजरों आई.सी.डी.एस. से मालूम हुआ कि उनके साथ ठीक तरह से समन्वय नहीं हुआ है। यह संख्या अधिक है तब सभी अधीक्षकों से अपील की गयी कि वे अपने ब्लाक की सी.डी.पी.ओ. से बैठक कर अति कुपोषित बच्चों की लिस्ट ले लें और आगे आप सी.डी.पी.ओ. से बैठक कर प्रगति रिपोर्ट भेजे। मौ. रिजवारन ने बल पोषण माह में मानिटरिंग का फीड बैक छर्रा, बिजौली, अतरौली की रिपोर्ट को पढ़ कर अवगत कराया और अपेक्षा की कि इन कमियों को अगले सत्रों में न दोहराये और कार्य की गुणवत्ता बनाये रखे डा. एस.पी सिंह जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने रेफर होने वाले बच्चों का उचित इलाज व कहां कहां होना है अवगत कराया और कहा कि अगर इसमें कोई दिक्कत आती है तो जिला प्रतिरक्षण अधिकारी से, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, मलखान सिंह जिला चिकित्सालय/ प. दीन दयाल उपा. सं. चिकित्सालय/ जिला महिला चिकित्सालय से मदद ले व अगर और दिक्कत आती है तो मेडीकल कोलेज, ए.एम.यू. में डा. खान को डा. मुनाजिर अली से मिलकर दूर करने का आश्वासन दिया।
डा. स्नेहल ने आर.आई. में फीड बैक की चर्चा की और बताया कि अलीगढ़ नीचे दो पैरामीटर खराब होने की वजह से सत्रों की जानकारी न होना व दूसरा लाभार्थियों को इजेक्शन लगाने के बाद होने वाली कठिनाईयों के डर से न लगवाना बताया और कहा कि आशा ए.एन.एम., आंगनवाडी यदि सत्रों की जानकारी दे दें तो हम पर्शियल इम्युनाईजड बच्चों के प्रतिशत को कम कर सकते हैं। साथ साथ अच्छी माईक्रोप्लान भी अति आवश्यक है।डा. राजेन्द्र वाष्र्णेय, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा भी डयूलिस्ट व सजन लेने की प्रक्रिया पूरी करने के लिये सुझाव दिये और कार्य को और वहतर बनाने की भी सुझाव दिये। बैठक में डा. हरि सिंह यादव सचिव, यूनिवर्सल एजुकेेशन उ.प्र. भी उपस्थित थे जो टीकाकरण व जनता में होने वाले रोगों के बारे में अपने समाचार पत्र के द्वारा अवगत कराते रहते हैं।
अतः मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. ए.के. राय ने सभी अधीक्षकों को जिम्मेेदारी व कठिन कार्य करके टीकाकरण सुधारने की हिदयत दी और टीकाकरण में आने वाली कठिनाइयों को दूर करने का आश्वासन दिया तथा जिले के टीकाकरण कार्य को ऊपर श्रेणी में करने के लिए कमर कसकर कार्य करने की हिदायत दी।

Leave a Comment

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>